View Post

मैं भी प्रवासी हूं- रवीश कुमार

In Memoirs, People by Arvind KumarLeave a Comment

(गर्भनाल पत्रिका से साभार) बचपन से पहचान का यह सवाल परेशान करता रहा है। जब पटना शहर से गांव जाता था तो लोग ताने देते थे। बबुआ शहरी हो गया …

View Post

कोटणीस-चिंगलान का संगम एक बार फिर हिंद-चीन का संगम बन सकता है

In Adventure, Cinema, Culture, History, India-China, Memoirs, People by Arvind KumarLeave a Comment

अपने प्यारे ‘के दिहुआ’ की समाधि पर चीन के लोग अभी तक फूल चढ़ाते हैं. वह था महाराष्ट्र के शोलापुर मेँ जन्मा हमारा डाक्टर कोटणीस जिस के जीवन पर वी. …

View Post

कोटणीस-चिंगलान पर भारत-चीन अब तीसरी फ़िल्म बनाएँ

In Adventure, Cinema, Culture, Friendship, Goodwill, History, Memoirs, People, Politics by Arvind KumarLeave a Comment

अपने प्यारे ‘के दिहुआ’ की समाधि पर चीन के लोग अभी तक फूल चढ़ाते हैं. वह था महाराष्ट्र के शोलापुर मेँ जन्मा हमारा डाक्टर कोटणीस जिस के जीवन पर वी. …

View Post

जब वी मैट: राज कपूर और मैँ – पहली बार

In Cinema, Culture, Friendship, Memoirs, Mumbai, People, Poetry by Arvind KumarLeave a Comment

-अरविंद कुमार नवंबर 1963. शाम के लगभग चार-पाँच बजे. आर.के. स्टूडियो के कार्यालय ब्लाक मेँ शैलेंद्र जी और मैँ ज़ीना चढ़ कर बाल्कनी पहुँचे. बाईं ओर शुरू मेँ और अंत …

View Post

राज कपूर देह थे तो शैलेंद्र उन की आत्मा

In Art, Cinema, Friendship, People, Poetry by Arvind KumarLeave a Comment

–अरविंद कुमार चौदह दिसंबर – शैलेंद्र के प्रयाण और राज कपूर के जन्म दिवस पर विशेष ‘माधुरी’ का संपादक बन कर मैँ जब 1963 मेँ बंबई पहुँचा तो मेरी पसंद …

View Post

समांतर कोश के इक्कीस साल–भाग – 1

In Arvind Lexicon, Culture, Dictionary, English, Hindi, History, Language, Languages, Memoirs, People, Sanskrit, Thesaurus by Arvind KumarLeave a Comment

भाग एक -13 दिसंबर 2017. नई दिल्ली. इक्कीस साल पहले 13 दिसंबर 1996 के पूर्वाह्न कुसुम और मैँ ने तत्कालीन राष्ट्रपति डाक्टर शंकर दयाल को ‘समांतर कोश – हिंदी थिसारस’ …

View Post

‘समांतर कोश’ नाम कैसे बना

In Arvind Lexicon, Books, Culture, Dictionaries, Dictionary, Hindi, Language, Literature, Memoirs, People, People by Arvind KumarLeave a Comment

कमलेश्वर का योगदान हिंदी थिसारस का नाम समांतर कोश कैसे बना इस की भी एक कहानी है. इस पर काम शुरू किया था तो हम ने इस का नाम रखा …

View Post

मेरे पापा का बचपन – मीता लाल

In Memoirs, People by Arvind KumarLeave a Comment

मेरे पापा का बचपन – मीता लाल ­­शब्दोँ के अनंत पथ के राही मेरे पापा अरविंद कुमार के रथ मेँ चार पहिए हैँ – सपना, संकल्प, सूझबूझ, और साधना. पापा …

View Post

सर्वोत्तम संपादक अरविंद कुमार – लेखक: दयानंद पांडेय

In Books, Dictionaries, English, Hindi, Journalism, Literature, Memoirs, Mumbai, People, Reader's Digest, Thesaurus, Word Power by Arvind KumarLeave a Comment

(दयानंद हद से ज़्यादा सहजदिल बंदा है. जो बात उस मेँ ख़ास है, वह है रीकाल recall – ऐसी छोटी छोटी चीज़ेँ याह रख पाना और फिर वक़्त पड़ने पर …

View Post

मेरे पापा का बचपन–मीता लाल

In Memoirs, People by Arvind KumarLeave a Comment

मेरे पापा का बचपन शब्दोँ के अनंत पथ के राही मेरे पापा अरविंद कुमार के रथ मेँ चार पहिए हैँ – सपना, संकल्प, सूझबूझ, और साधना. पापा कहते हैँ उन …

शब्दवेध–क्या, किस के लिए

In Cinema, Culture, Drama, Hindi, History, Journalism, Language, Literature, Memoirs, People, Poetry by Arvind KumarLeave a Comment

शब्दवेध: क्योँ, किस के लिए शब्दवेध सब के लिए एक अत्यंत रोचक सत्यकथा है. कैसे कोई अपनी मेहनत और लगन के, निष्ठा, संकल्प और प्रतिबद्धता ​के बल पर कमतरीन से …

View Post

करामाती कोशकार

In Dictionary, English, English, Hindi, Hindi, History, Journalism, Language, Literature, Memoirs, People, Thesaurus by Arvind KumarLeave a Comment

मंज़िल दूर होती गई, इरादा मज़बूत होता गया मोहन शिवानंद (रीडर्स डाइजेस्ट के भारतीय संस्करण के प्रधान संपादक हैं) प्रकाशनालय दिल्ली प्रैस का वह नौजवान पत्रकार अरविंद कुमार हिंदी कहानी …

View Post

क्योँ न फटा धरती का कलेजा, क्योँ न फटा आकाश

In Cinema, Hindi, Memoirs, People by Arvind KumarLeave a Comment

—अरविंद कुमार दिन 1 – 1963 आर. के. स्टूडियोज़ के मुख्य ब्लाक में पहली मंज़िल पर छोटे से फ़िल्म संपादन कक्ष में राज कपूर और मैं नितांत अकेले थे. उन …

आइंस्टाइन – बात टिकट की नहीँ है

In Memoirs, People, Science, Travel by Arvind KumarLeave a Comment

  प्रसिद्ध वैज्ञानिक आइंस्टाइन के बारे में मशहूर है यह क़िस्सा— उस साल उन्हें टाइम पत्रिका ने शताब्दी मानव घोषित किया था. वह प्रिंसटन से रेलगाड़ी में सफ़र कर रहे …

View Post

अरविंद कुमार का शब्दों का जुनून अभी तक कम नहीं हुआ

In Dictionary, English, Hindi, People, Thesaurus by Leave a Comment

–अनुराग ‘कर्म करना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है. हमारा कर्म सफल होगा या नहीं, हमें इस की तो परवाह करनी ही नहीं चाहिए, हम काम पूरा कर पाएँगे या नहीँ– इस …

View Post

अरविंद कुमार को शलाका सम्मान: PTI

In About, Arvind Lexicon, People by Leave a Comment

    पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:41 HRS IST नयी दिल्ली, 16 जून :भाषा: हिन्दी अकादमी, दिल्ली ने वर्ष 2010-11 के कुल आठ सम्मानों की घोषणा कर दी। इस वर्ष समांतर कोश …

View Post

शब्दशक्ति के साधक शलाका पुरुष अरविंद कुमार

In About, Arvind Lexicon, People by Leave a Comment

  Figure 1 अरविंद कुमार   “शब्द मनुष्य की सब से बड़ी उपलब्धि हैँ, प्रगति के साधन और ज्ञान विज्ञान के भंडार हैँ, शब्दोँ की शक्ति अनंत है.” यह कहना …

View Post

अरविंद कुमार हिंदी अकादमी श्लाका सम्मान से सम्मानित

In About, Arvind Lexicon, People by Leave a Comment

 बाल श्रमिक से शब्‍दाचार्य तक की यात्रा :  हम नींव के पत्थर हैं तराशे नहीं जाते। सचमुच अरविंद कुमार नाम की धूम हिंदी जगत में उस तरह नहीं है जिस …

View Post

एक सार्थक और प्रेरक ज़िंदगी जी है अरविंद कुमार ने

In About, Arvind Lexicon, People by Leave a Comment

  Figure 1 – तत्कालीन राष्ट्रपति डा. शंकर दयाल शर्मा को समांतर कोश की पहली प्रति भेंट करते अरविंद कुमार दंपति. 13 दिसंबर 1996. यह अरविंद कुमार की पहली प्रकाशित …

अंधा युग

In Culture, Drama, History, People by Arvind KumarLeave a Comment

एक प्रस्तुति मन में – तीन प्रस्तुतियाँ मंच पर… –अरविंद कुमार सितंबर १९९२ में मैं ने जब श्री रामगोपाल बजाज निर्देशित राष्‍ट्रीय नाट्य विद्यालय के छात्रों द्वारा अंधा युग की …